Rajasthan Diwas 2023. कब और क्यों बनाया जाता है और किस लिए बनाया जाता है.

By | January 23, 2023

Rajasthan Diwas 2023- राजस्थान भारत गणराज्य का क्षेत्रफल के आधार पर सबसे बड़ा राज्य है।इस राज्य की एक अंतरराष्ट्रीय सीमा पाकिस्तान के साथ लगती है। इसके अतिरिक्त यह देश के अन्य पाँच राज्यों से भी जुड़ा है।इसके दक्षिण-पश्चिम में गुजरात, दक्षिण-पूर्व में मध्यप्रदेश, उत्तर में पंजाब (भारत), उत्तर-पूर्व में उत्तरप्रदेश और हरियाणा है। राज्य का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग कि॰मी॰ (132139 वर्ग मील) है। 2011 की गणना के अनुसार राजस्थान की साक्षरता दर 66.11% हैं।

जयपुर राज्य की राजधानी है। भौगोलिक विशेषताओं में पश्चिम में थार मरुस्थल और घग्गर नदी का अंतिम छोर है। विश्व की पुरातन श्रेणियों में प्रमुख अरावली श्रेणी राजस्थान की एक मात्र पर्वत श्रेणी है, जो कि पर्यटन का केन्द्र है, माउंट आबू और विश्वविख्यात दिलवाड़ा मंदिर सम्मिलित करती है। राजस्थान में तीन बाघ अभयारण्य, मुकंदरा हिल्स[2], रणथम्भौर एवं सरिस्का हैं और भरतपुर के समीप केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान है, जो सुदूर साइबेरिया से आने वाले सारसों और बड़ी संख्या में स्थानीय प्रजाति के अनेकानेक पक्षियों के संरक्षित-आवास के रूप में विकसित किया गया है। राजस्थान का सबसे नया संभाग भरतपुर है। राजस्थान का सबसे छोटा जिला क्षेत्रफल की दृष्टि से धौलपुर है, और सबसे बड़ा जिला जैसलमेर हैं।

Rajasthan Diwas 2023.  कब और क्यों बनाया जाता है और किस लिए बनाया जाता है.

राजस्थान का एकीकरण

राजस्थान भारत का एक महत्वपूर्ण प्रांत है। यह 30 मार्च 1949 को भारत का एक ऐसा प्रांत बना, जिसमें तत्कालीन राजपूताना की ताकतवर रियासतें विलीन हुईं। 30 मार्च, 1949 में जोधपुर, जयपुर, जैसलमेर और बीकानेर रियासतों का विलय होकर ‘वृहत्तर राजस्थान संघ’ बना। इस दिन को राजस्थान के लोगों की वीरता, दृढ़ इच्छाशक्ति और बलिदान को नमन किया जाता है। राजस्थान दिवस को ही राजस्‍थान स्‍थापना दिवस भी कहते हैं।   भरतपुर के जाट शासक ने भी अपनी रियासत के विलय राजस्थान में किया था। राजस्थान शब्द का अर्थ है: ‘राजाओं का स्थान’ क्योंकि ये राजपूत राजाओ से रक्षित भूमि थी। इस कारण इसे राजस्थान कहा गया था।

राजस्थान घरेलू और अंतरराष्ट्रीय पर्यट

राजस्थान घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों पर्यटकों के लिए भारत में सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। राजस्थान अपने ऐतिहासिक किलों, महलों, कला और संस्कृति के लिए पर्यटकों को आकर्षित करता है, जिसका नारा “पधारो म्हारे देश” है, जो अब बदल गया है। भारत आने वाला हर तीसरा विदेशी पर्यटक राजस्थान की यात्रा करता है क्योंकि यह भारत आने वाले पर्यटकों के लिए स्वर्ण त्रिभुज का हिस्सा है।

जयपुर के महल, उदयपुर की झीलें, और जोधपुर, बीकानेर और जैसलमेर के रेगिस्तानी किले कई भारतीय और विदेशी पर्यटकों के सबसे पसंदीदा स्थलों में से हैं। पर्यटन राज्य के घरेलू उत्पाद का आठ प्रतिशत हिस्सा है। कई पुराने और उपेक्षित महलों और किलों को हेरिटेज होटल में बदल दिया गया है। यह भारत में सबसे खूबसूरत जगह है जहां पुराने भवनों की विरासत विभिन्न जातियों के महाराजाओं द्वारा बनाई गई है।

Rajasthan का पुरस्कार और उपलब्धियों

साक्षरता के प्रसार में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए राजस्थान के सतत शिक्षा केंद्र की विभिन्न विकासात्मक और कल्याणकारी योजनाओं को अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दी गई है।

राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण, राजस्थान चीन में प्रतिष्ठित यूनेस्को कन्फ्यूशियस पुरस्कार 2006 से सम्मानित होने वाला पहला राज्य है। राज्य ने निरक्षरता को दूर करने के अपने प्रयासों में काफी हद तक उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है, निकट भविष्य में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए बार को ऊपर उठाया है।

साक्षरता निदेशालय ने राष्ट्रीय स्तर पर एक प्रेरक और उल्लेखनीय पहचान हासिल की है। राजस्थान को वयस्क साक्षरता के लिए एनएलएमए-यूनेस्को पुरस्कार 2000 से सम्मानित किया गया। अब तक जिले सीकर, पाली, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, जालोर, जैसलमेर, दौसा, बीकानेर, अजमेर, हनुमानगढ़ और उदयपुर को साक्षरता कार्यक्रमों के विभिन्न चरणों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सत्येन मैत्रे पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। 399 समर्पित ‘प्रेरक’ ने जीता अक्षर मित्र पुरस्कार..

केंद्र को कई अन्य उपलब्धियों के लिए मान्यता दी गई है। नव-साक्षर महिलाओं द्वारा तैयार किए गए व्यावसायिक उत्पादों को दिल्ली हाट बाजार में प्रदर्शित किया गया, जिसने उनमें और अन्य लोगों में स्वतंत्र होने और दुनिया की चुनौतियों का सामना करने का उत्साह जगाया है। राजस्थान में अभिनव गतिविधियों पर एक फिल्म – ‘विंग्स ऑफ विजडम’ को अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस, 2006 पर नई दिल्ली में प्रदर्शित किया गया था।

भारत के राष्ट्रपति ने 8 सितंबर 2014 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण, राजस्थान को साक्षर भारत पुरस्कार 2014 प्रदान किया। जिला स्तर पर, जिला सीकर ने साक्षर भारत पुरस्कार 2014 प्राप्त किया।

Website | + posts

मैं एक फ्रीलांसर हूं और मैं यहां काम कर रही हूं मुझे आर्टिकल लिखना काफी पसंद है। मेरी लिखी हुई आर्टिकल कई सारे बड़े वेबसाइट पर पब्लिश है। मुझे ज्यादा टेक्नॉलजी ओर reviews जैसे आर्टिकल लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *